Top 21 Popular Shayari in Hindi Urdu By Mirza Ghalib


Mirza Ghalib उर्दू और पर्शियन लैंग्वेज के सबसे पॉपुलर शायर थे उनका नाम तो हर कोई जनता है जिसने भी कभी प्यार किया है। ग़ालिब को प्यार या इश्क का दूसरा नाम कहा जाता है अगर हम ये कहें के इश्क़ ग़ालिब से ही शुरू होता है तो कुछ गलत नहीं होगा ऐसा लगता है के जैसे ग़ालिब इश्क़ को जीते थे इतनी शिदत्त थी उनकी शायरी में।

  क्या आप जानते हैं  Mirza Ghalib का पूरा नाम मिर्ज़ा असदुल्लाह बैग खान है पर वो ग़ालिब के नाम से ही पॉपुलर थे उनके टाइम में भी ग़ालिब गहरी से गहरी बात को इतनी आसानी से और शिद्दत से शायरी में लिखते थे के दिल को छू जाते थे यही कारण था के वो इतने ज्यादा पॉपुलर हुए जैसे के हमने बताया ग़ालिब उर्दू और पर्शियन लैंग्वेज में लिखा करते थे 
  
मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्म २७ दिसंबर १७९७ को आगरा सिटी में हुआ पर उनका पहला प्यार दिल्ली ( दिल्ली ) ही था जिसके बारे में वो लिखा करते थे  Mirza Ghalib ने एक बार कहा था के अगर मैं कहुं दिल्ली क्या है ? तो जवाब होगा पूरा संसार एक शारीर है और दिल्ली उसका दिल । 
  
Mirza Ghalib से भी दिल्ली ( दिल्ली ) का ये प्यार कभी न खत्म होने वाला है आज भी २२० इयर्स के बाद भी दिल्ली और दिल्ली के रेहने वाले सभी लोग  Mirza Ghalib से उतना ही प्यार करते हैं जितना के वो खुद करते थे दिल्ली स। उनकी शायरी लोगों के दिलों में बसी हुई है चाहे वो  उर्दू शायरी के चाहने वाले हो या फिर हिंदी शायरी के। 
  
पॉपुलर उर्दू शायर गुलज़ार जी कहते हैं के मिर्ज़ा ग़ालिब का होना सबके लिए जरुरी है आप उनके बारे में तब भी जान सकते चाहे आपको उनकी भाषा भी न आती हो ग़ालिब की शायरी उनका लाइफस्टाइल उनका लिखने का तरीका हर एक चीज एक इंस्पिरेशन की तरह है ।

मिर्ज़ा ग़ालिब के वक़्त जब लोग अपने अपने धर्म को लेकर बहुत एग्रेसिव थे उस टाइम में भी ग़ालिब मानवता की बात करते थे , ग़ालिब ने अपने ७ बच्चों को खोयी था इतना दुःख दर्द अपने अंदर समेटे हुए भी वो अपनी ज़िंदा दिली और Senses of humour के लिए जाने जाते थे  ।

Mirza Ghalib की शायरी बॉलीवुड में बहुत ज़्यादा उसे की जाती है आज भी उनकी उर्दू की शायरी लोगों की जुबान पर है अपने उनकी कुछ पॉपुलर शायरी तो सुनी ही होगी जैसे के  ...

Mirza Ghalib's Popular Poetry Like :

  • हज़ारों ख्वाहिशें ऐसी के हर ख्वाहिश पे दम निकले 
  • बहुत निकले मेरे अरमान लेकिन फिर भी कम निकले 

 Mirza Ghalib Shayari in Hindi and Urdu 


आज हम शेयर कर रहे हैं कुछ  Popular  shayari by Mirza Ghalib जिसको आप शेयर करें अपने फ्रेंड्स और प्यार करने वालों के साथ ।

popular shayari by Ghalib
popular shayari by Ghalib



हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन
दिल के ख़ुश रखने को 'ग़ालिब' ये ख़याल अच्छा है




popular shayari by Ghalib
popular shayari by Ghalib



उन के देखे से जो आ जाती है मुँह पर रौनक़
वो समझते हैं कि बीमार का हाल अच्छा है

popular shayari by Ghalib
popular shayari by Ghalib



इश्क़ पर ज़ोर नहीं है ये वो आतिश 'ग़ालिब'
कि लगाए न लगे और बुझाए न बने


popular shayari by Ghalib
popular shayari by Ghalib


तेरे वादे पर जिए हम तो ये जान झूट जाना
कि ख़ुशी से मर न जाते अगर एतिबार होता


popular shayari by Ghalib
popular shayari by Ghalib


तुम न आए तो क्या सहर न हुई,
हाँ मगर चैन से बसर न हुई,
मेरा नाला सुना ज़माने ने मगर,
एक तुम हो जिसे ख़बर न हुई।


popular shayari by Ghalib
popular shayari by Ghalib


न था कुछ तो ख़ुदा था, कुछ न होता तो ख़ुदा होता
डुबोया मुझको होने ने न होता मैं तो क्या होता?


popular shayari by Ghalib
popular shayari by Ghalib


जब हुआ ग़म से यूँ बेहिस तो ग़म क्या सर के कटने का
न होता गर जुदा तन से तो ज़ानू पे धरा होता


popular shayari by Ghalib
popular shayari by Ghalib


हुई मुद्दत के ग़ालिब मर गया पर याद आता है,
वो हर इक बात पर कहना के यूँ होता तो क्या होता।



mirza ghalib ki shayari
mirza ghalib ki shayari



हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तुगू क्या है



mirza ghalib ghazal
mirza ghalib ghazal


न शोले में ये करिश्मा, न बर्क़ में ये अदा
कोई बताओ कि वो शोख़े-तुन्द-ख़ू क्या है



mirza ghalib quotes
mirza ghalib quotes


ये रश्क है कि वो होता है हमसुख़न तुमसे वर्ना ख़ौफ़-ए-बद-आमोज़िए-अ़दू क्या है



mirza ghalib shayari in urdu
mirza ghalib shayari in urdu



चिपक रहा है बदन पर लहू से पैराहन
हमारे जैब को अब हाजत-ए-रफ़ू क्या है


mirza ghalib shayari in urdu
mirza ghalib shayari in urdu



जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तुजू क्या है



mirza ghalib poems
mirza ghalib poems




रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ाइल
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है



mirza ghalib poems
mirza ghalib poems



वो चीज़ जिस के लिए हम को हो बहिश्त अज़ीज़
सिवाए बादा-ए-गुलफ़ाम-ए-मुश्क-बू क्या है



mirza ghalib quotes
mirza ghalib quotes





पियूँ शराब अगर ख़ुम भी देख लूँ दो-चार
ये शीशा ओ क़दह ओ कूज़ा ओ सुबू क्या है



mirza ghalib quotes
mirza ghalib quotes



रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी
तो किस उमीद पे कहिए कि आरज़ू क्या है



mirza ghalib quotes
mirza ghalib quotes




रही न ताक़त-ए-गुफ़्तार और अगर हो भी
तो किस उमीद पे कहिए कि आरज़ू क्या है



हुआ है शह का मुसाहिब फिरे है इतराता
वगर्ना शहर में 'ग़ालिब' की आबरू क्या है



mirza ghalib quotes
mirza ghalib quotes




ये हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं
कभी सबा को कभी नामा-बर को देखते हैं


वो आए घर में हमारे ख़ुदा की क़ुदरत है
कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं



mirza ghalib quotes
mirza ghalib quotes




नज़र लगे न कहीं उस के दस्त-ओ-बाज़ू को
ये लोग क्यूँ मिरे ज़ख़्म-ए-जिगर को देखते हैं


तिरे जवाहिर-ए-तुर्फ़-ए-कुलह को क्या देखें
हम औज-ए-ताला-ए-लाला-ओ-गुहर को देखते हैं




mirza ghalib quotes
mirza ghalib quotes




यही है आज़माना तो सताना किस को कहते हैं
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तिहाँ क्यूँ हो



 Mirza Ghalib Faqs

  • What Does Galib Means ?

 Ans - The name Ghalib is a Muslim Baby Names baby name. In Muslim Baby Names the meaning of the name Ghalib is: Conqueror. Victor. Dominant
  •  What is the birthplace of Mirza Ghalib?

 Ans - Mirza Ghalib Ka Birthplace Agra hai
  •  What is the real name of Mirza Ghalib?

 Ans - Mirza Ghalib Ka Pura Naam Mirza Asadullah Baig Khan Hai
  •  Where did Ghalib died?

 Ans - Mirza Ghalib Died At Delhi 15 February 1869
 Mirza Ghalib ka Swaragvas 15 February 1869 mein Delhi mein hua tha
  •  What is Mirza Ghalib's  Date of Birth ( DOB )

 Ans - 27 December 1997
  •  What is Mirza Ghalib Wife's Name ?

 Ans - Mirza Ghalib's Wife Name is Umrao Begum





Post a comment

0 Comments